ssakshtkaar

  • Sep 18 2018 2:52PM

तकनीक से कुम्हारों को बनाया जायेगा स्मार्ट

तकनीक से कुम्हारों को बनाया जायेगा स्मार्ट

पंचायतनामा डेस्क

अपनी माटी से दूर हो रहे लोगों को जागरूक कर इससे जोड़ने की कोशिश की जा रही है. इसके लिए गांव-गांव में जाकर जागरूकता कार्यक्रम चलाया जायेगा. मिट्टी के बर्तनों का उपयोग करने से न सिर्फ लोग स्वस्थ रहेंगे, बल्कि माटी के उत्पादों की बिक्री से कुम्हारों को रोजगार भी मिलेगा. इसके लिए कुम्हारों को तकनीकी रूप से सक्षम बनाकर स्मार्ट बनाया जायेगा. पढ़ें झारखंड माटी कला बोर्ड के सदस्य अविनाश देव से बातचीत

कम समय में अधिक उत्पाद होगा तैयार
पहले कुम्हार चाक पर माटी के बर्तन बनाते थे. समय भी अधिक लगता था और अधिक मेहनत भी लगती थी. अब इनके कौशल का विकास कर इन्हें तकनीकी रूप से सशक्त किया जायेगा. इलेक्ट्रिक चाक समेत अन्य सुविधाएं प्रशिक्षण के बाद इन्हें उपलब्ध कराया जायेगा. इससे कम समय में बेहतर उत्पाद तैयार होगा. अधिक उत्पादन के साथ अच्छी कीमत भी मिलेगी. इससे कुम्हारों की आर्थिक स्थिति जल्द मजबूत होगी.

अच्छी सेहत के लिए करें मिट्टी के बर्तनों का उपयोग
एक वक्त था, जब माटी के बर्तन का अधिक से अधिक उपयोग होता था, लेकिन बदलते समय के साथ मिट्टी के बर्तनों का उपयोग नहीं के बराबर हो गया. स्वास्थ्य पर कुप्रभाव के कारण प्लास्टिक पर रोक लगायी गयी है. लोगों को सेहत के लिए अधिक से अधिक मिट्टी के बर्तनों का उपयोग करने के लिए प्रेरित किया जायेगा. प्लास्टिक मुक्त व मिट्टी युक्त झारखंड के लिए माटी कला बोर्ड द्वारा हर संभव प्रयास किया जा रहा है.

माटी की उपलब्धता के लिए बंदोबस्ती का प्रयास
हर कुम्हार को आसानी से मिट्टी उपलब्ध हो जाये. इसके लिए प्रखंड स्तर पर जमीन की बंदोबस्ती की कोशिश की जायेगी. इसके बाद पंचायत स्तर पर इसकी उपलब्धता पर जोर दिया जायेगा. बाजार में उन्हें दुकान दिलाने का प्रयास होगा. उनकी कोशिश है कि दीपावली में हर घर में मिट्टी का दीया जले. राजकोट के मनसुख भाई प्रजापति द्वारा मिट्टी का बना फ्रीज (बिना बिजली का चलनेवाला) और कूकर समेत अन्य उत्पाद कुम्हारों को बेहतर उत्पादन के लिए प्रेरित करेंगे.

माटी से जोड़ने की होगी कोशिश
जागरूकता कार्यक्रम के जरिये लोगों को माटी से जोड़ा जायेगा. तकनीकी रूप से कुम्हारों को प्रशिक्षित कर स्मार्ट बनाया जायेगा. इससे वह बाजारों का मुकाबला कर सकेंगे. अच्छी कीमत से उनका जीवन स्तर भी सुधरेगा.