ssakshtkaar

  • Oct 3 2019 5:29PM

खादी से गांवों में कुटीर उद्योग को मिल रहा बढ़ावा : रंजीत कुमार सिन्हा

खादी से गांवों में कुटीर उद्योग को मिल रहा बढ़ावा : रंजीत कुमार सिन्हा

समीर रंजन

झारखंड राज्य खादी एवं ग्रामोद्योग बाेर्ड का उद्देश्य ग्रामीणों के हुनर को आगे बढ़ाते हुए उन्हें स्वरोजगार उपलब्ध कराना है. इससे न सिर्फ ग्रामीणों में आत्मविश्वास बढ़ रहा है, बल्कि अपने हुनर से लोगों को भलीभांति परिचित भी करा रहे हैंझारखंड राज्य खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड के सीइओ रंजीत कुमार सिन्हा ने बताया कि सिलाई-कढ़ाई का प्रशिक्षण देकर युवतियों को आत्मनिर्भर बनाया जा रहा है. कई महिलाएं प्रशिक्षण व उत्पादन का कार्य कर रही हैं. बापू की 150वीं जयंती के अवसर पर खादी से निर्मित वस्तुओं पर 20 से 25 फीसदी तक की छूट दी जा रही है, ताकि अधिक से अधिक लोग इसे अपना सकें. खादी का मतलब सिर्फ लाभ कमाना नहीं, बल्कि इसे आंदोलन के तौर पर अपनाना है. खादी ग्रामोद्योग एक कुटीर उद्योग है. इसके सहारे गांवों में कुटीर उद्योग को बढ़ावा दिया जा रहा है.

हुनरमंदों को मिल रहा मंच
राज्य के प्रतिभावानों के हुनर को तराशा जा रहा है. खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड उन्हें एक मंच मुहैया कराता है. सुदूर गांव के ग्रामीणों के हाथ में अद्भुत कला है. सूती व रेशमी धागे से वे बेहतर कपड़ों का निर्माण कर रहे हैं. पत्थरों को तराश कर सुंदर कलाकृतियां बना रहे हैं. पीतल के आभूषण से सुंदर वस्तुएं बना रहे हैं. लाह चूड़ी बनाने का प्रशिक्षण पाकर महिलाएं स्वावलंबी बन रही हैं.

20-25 फीसदी की छूट
खादी कपड़ों के प्रचार-प्रसार के लिए बोर्ड ने कई सुविधाएं उपलब्ध करायी हैं. बापू की 150वीं जयंती के उपलक्ष्य में खादी बोर्ड कपड़ों पर 20 से 25 फीसदी तक की छूट दे रहा है. कपास से बने कपड़ों पर 20 फीसदी और रेडिमेड कपड़ों पर 25 फीसदी छूट दी गयी है. इसके अलावा राज्यसभा सांसद महेश पोद्दार के सौजन्य से खादी इन व्हील्स की शुरुआत की जा रही है. इसके माध्यम से गांव-गांव में खादी का प्रचार-प्रसार किया जायेगा.

झारखंड में स्थापित केंद्र
खादी उत्पादन के लिए झारखंड में विभिन्न केंद्र बनाये गये हैं. इन केंद्रों में सारे कार्य ग्रामीणों के माध्यम से कराया जाता है. सभी काम हाथ से किये जाते हैं, ताकि अधिक से अधिक ग्रामीणों को रोजगार मिल सके. बोर्ड की ओर से प्रशिक्षण की व्यवस्था भी की जाती है.

1. तसर सिल्क धागा व कपड़ा उत्पादन केंद्र जिला
कुचाई, चाांडिल, आमदा, राजनगर व मारंगहातू सरायकेला-खरसावां
भगैया गोड्डा
देवघर देवघर

2. खादी कपास उत्पादन केंद्र               जिला
डालटेनगंज व हरिहरगंज                          पलामू
गढ़वा                                                  गढ़वा
देवघर                                                 देवघर
विकास भवन                                         दुमका

3. मधु उत्पादन केंद्र                           जिला
सीताडीह, जोन्हा व गढ़टोली                       रांची
बानो                                                    सिमडेगा
कुड़ू                                                     लोहरदगा
मुरहू                                                     खूंटी

4. टेराकोटा आभूषण व मिट्टी बर्तन निर्माण                  जिला
बुंडू व सीताडीह                                                          रांची

5. ब्लॉक व स्क्रिन प्रिंटिंग                                     जिला
बुंडूू                                                                         रांची

6. डोकरा आभूषण निर्माण केंद्र                                जिला
शिकारीपाड़ा                                                             दुमका
सीताडीह                                                                  रांची

7. पत्थर की कलाकृतियां                                         जिला
शिकारीपाड़ा                                                              दुमका

8. बांस उत्पाद केंद्र                                                जिला
दुमका                                                                       दुमका

9. लाह चुड़ी उत्पादन केंद्र                                       जिला
सिलादोन                                                                   खूंटी

10. औषधीय उत्पाद केंद्र                                        जिला
जमशेदपुर                                                               पूर्वी सिंहभूम

11. आचार निर्माण केंद्र                                            जिला

बिशुनपुर                                                                   गुमला

12. मसाला निर्माण केंद्र                                           जिला
पिठोरिया                                                                     रांची

13. जूट उत्पादन केंद्र                                              जिला
डोरंडा                                                                        रांची

ग्रामीणों को लाभ
प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम के तहत बैंक से लोन लेकर लेकर ग्रामीण इससे जुड़ सकते हैं. खादी बोर्ड से जुड़ने वाली संस्थाएं अपने खादी उत्पाद पर खादी के लोगो का इस्तेमाल कर सकती हैं. इसके लिए खादी बोर्ड के अंतर्गत होने वाले कार्य करने के लिए बैंक से अनुदानित दर पर लोन दिया जाता है. बेहतर बाजार उपलब्ध कराने और कारीगरों को दूसरे राज्यों की कला को सीखने व समझने के लिए खादी मेला का आयोजन किया जाता है. पूरे राज्य में खादी के 14 आउटलेट हैं. इसमें एक दिल्ली में है और जल्द ही एक आउटलेट लखनऊ में खुलने वाला है. सिलाई के लिए 45 प्रशिक्षण केंद्र बनाये गये हैं. प्रशिक्षण केंद्र में प्रशिक्षण प्राप्त करने के बाद 75 फीसदी अनुदान पर इलेक्ट्रॉनिक सिलाई मशीन दी जाती है.