ground zero

  • Feb 5 2020 2:25PM

आदर्श पंचायत की ओर बढ़ती बड़कीपुनू पंचायत

आदर्श पंचायत की ओर बढ़ती बड़कीपुनू पंचायत
सोलर जलमीनार से पानी ला रहीं महिलाएं

नागेश्वर
जिला: बोकारो 

बोकारो जिला अंतर्गत गोमिया प्रखंड की उग्रवाद प्रभावित बड़कीपुनू पंचायत की तस्वीर बदली है. पहले की अपेक्षा विकास के कई कार्य हुए हैं. मुखिया संजय कुमार के अथक प्रयास से पंचायत का चेहरा बदल रहा है. पहले क्षेत्र के ग्रामीण कोसों दूर जाकर चुआं, डाड़ी, तालाब व नदी से पानी लाकर जीवन-यापन करने को विवश थे, वहीं पंचायत क्षेत्र में सात जगहों पर डीप बोरिंग कराकर ग्रामीणों को इस समस्या से मुक्ति दिलायी गयी. सौर ऊर्जा के माध्यम से ग्रामीणों को पेयजल उपलब्ध कराया जा रहा है. पानी की उपलब्धता होने के कारण अब बंजर भूमि पर भी हरियाली आ गयी है. ग्रामीण बंजर भूमि में आलू, साग-सब्जियों का उत्पादन कर रहे हैं. छोटकीपुनू के दिलेश्वर महतो ने मनरेगा कूप से अपनी बंजर भूमि में हरियाली ला दी है. इसके अलावा 350 आवासविहिन जरूरतमंदों को प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत आशियाना मिला. गांव में 510 शौचालय का निर्माण हुआ. आवागमन के लिए सड़क का निर्माण हुआ. इससे ग्रामीणों को आवागमन में काफी सहूलियत हो रही है. सड़कों पर बहते पानी की रोकथाम के लिए सड़क किनारे नाली बनवायी गयी. इस तरह से बड़कीपुनू में विकास कार्य से बदलाव दिखने लगा है.

शौचालय निर्माण में लगी दो महिला सम्मानित

क्षेत्र की दो महिलाएं जलीमुन खातून और शमा परवीन ने कम लागत व कुछ राशि खुद लगाकर बेहतर शौचालय का निर्माण किया. स्वच्छता के प्रति समर्पित इन दोनों महिलाओं को बोकारो उपायुक्त ने प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया. पुरस्कृत दोनों महिलाओं ने कहा कि उक्त शौचालय का उपयोग हम सभी परिवारों को करना है, तो फिर क्यों नहीं उसे बेहतर ढंग से बनाया जाये.

अब महिलाएं नहीं जाती हैं गांव से दूर पानी लाने : हेंब्रम

ग्रामीण हेंब्रम कहते हैं कि घंघरी आदिवासी बहुल गांव की महिलाएं पहले गांव से एक किलोमीटर दूर दामोदर नदी पानी लाने जाती थीं, पर जब से गांव में सौर डीप बोरिंग कर पाइपलाइन से पानी मुहैया कराया जा रहा है, तब से काफी हद तक पेयजल की समस्या का समाधान हो गया है.

गांव में होगा विकास, रुकेगा पलायन : आरडी साहू

सामाजिक कार्यकर्ता आरडी साहू कहते हैं कि गांव में कृषि योग्य काफी भूमि है, जो पटवन के अभाव में उपयोग में नहीं लाया जा रहा है. अगर सिंचाई की समुचित व्यवस्था हो, तो क्षेत्र के किसानों के दिन बदलने लगेंगे. इससे जहां उन्हें काम मिलेगा, वहीं पलायन भी रुकेगा.

बड़कीपुनू को आदर्श पंचायत बनाने का संकल्प : संजय कुमार

बड़कीपुनू पंचायत के मुखिया संजय कुमार कहते हैं कि पंचायत क्षेत्र के हर गांव में विकास के कार्य हुए हैं. इससे ग्रामीण काफी खुश हैं. अब बड़कीपुनू को आदर्श पंचायत बनाना है. इस दिशा में तेजी से कार्य किये जा रहे हैं. जल्द ही इसकी गिनती आदर्श पंचायत की श्रेणी में होगी.

एक नजर में बड़कीपुनू पंचायत

आबादी : 8000

साक्षरता दर : 70 फीसदी

प्रधानमंत्री आवास निर्माण : 350

शौचालय निर्माण : 510

मनरेगा से सिंचाई कूप : 62

डोभा : 68

टीसीबी : 42