gram savraj

  • Apr 2 2019 4:06PM

देश को गढ़ने के लिए हर हाल में करें वोट

देश को गढ़ने के लिए हर हाल में करें वोट


पंचायतनामा डेस्क

लोकतंत्र के महापर्व में वोट ही वो ताकत है, जो देश को नये सिरे से गढ़ने का काम करता है. हर वोट की अपनी अहमियत है. ऐसे में एक-एक वोट कीमती है. आप अपने गांव, समाज और देश को मजबूत करना चाहते हैं, तो हर हाल में वक्त निकाल कर वोट देने मतदान केंद्र पर जायें. रांची लोकसभा के कांके क्षेत्र के स्थानीय लोगों में भी वोटिंग को लेकर काफी उत्साह है. वो कहते हैं कि परिस्थितियां चाहे जो हों, हमेशा की तरह वो अपना बेशकीमती वोट जमीन से जुड़े और सुख-दुख के साथी को देंगे. हर किसी को अपने मताधिकार का प्रयोग करना चाहिए.

मतदान को लेकर मतदाताओं का नजरिया
1.
स्वरोजगार को बढ़ावा देने वाला हो : अशोक शाहदेव
पतरा टोली के अशोक शाहदेव कहते हैं कि वोट करना उनका अधिकार है और वो इसका हमेशा प्रयोग करते हैं. इस बार भी वो ऐसे प्रत्याशी को वोट करना चाहेंगे, जिसकी छवि स्वच्छ हो. सबको साथ लेकर चले. बुनियादी समस्याओं का समाधान करे, नशाबंदी और सबसे अहम स्वरोजगार को बढ़ावा दे. बेरोजगारी से युवा वर्ग काफी परेशान है.

2. बहुमत के लिए जरूर करें वोट : सहदेव मुंडा
फार्म असिस्टेंट से सेवानिवृत्त सहदेव मुंडा कहते हैं कि लोकतंत्र की मजबूती के लिए वोट करना हर किसी के लिए जरूरी है. मजबूत सरकार बनाने व बहुमत के लिए वोट करना चाहिए. जाति-धर्म से ऊपर उठकर ऐसे प्रत्याशी को वह हमेशा वोट करते हैं, जो क्षेत्र का विकास करनेवाला हो.

3. सकारात्मक बदलाव के लिए वोट जरूर करें : हाजी हैदर अली
हाजी हैदर अली (80 वर्ष) कहते हैं कि वोट देश को गढ़ने का सबसे बड़ा हथियार है. वो इसकी अहमियत समझते हैं. जाति-धर्म और पार्टी से ऊपर उठ कर समाज के लिए सोचनेवाले व्यक्ति को वह प्रत्याशी चुनना पसंद करते हैं. प्रचंड गर्मी हाे या कड़ाके की ठंड. हर हाल में वो वोट करते आये हैं. 1958 में उन्होंने पहली बार वोट किया था.

4. वादा पूरा करने वाला हो : मोहम्मद इलियास
बोड़ेया उच्च विद्यालय के सेवानिवृत्त प्रधानाचार्य मोहम्मद इलियास कहते हैं कि प्रत्याशी कर्मठ, ईमानदार, क्रियाशील और वादा पूरा करनेवाला हो. नौकरी के दौरान उन्होंने विभिन्न जिलों में न सिर्फ वोट किया, बल्कि पीठासीन पदाधिकारी के रूप में नक्सल प्रभावित इलाके में विपरीत परिस्थितियों में भी वोटिंग करायी. 1974 में उन्होंने पहली बार वोट किया था.

5. सामाजिक बदलाव के लिए वोट करें : गोविंद नारायण तिवारी
सेवानिवृत्त बीएयूकर्मी बोड़ेया निवासी गोविंद नारायण तिवारी कहते हैं कि अच्छे समाज के निर्माण के लिए अच्छे प्रत्याशी का चयन जरूरी है और ये संभव है आम जनता के वोट से ही. सहज, सुलभ और जनता से जुड़ाव रखनेवाले प्रत्याशी को वह प्राथमिकता देते हैं. सामाजिक बदलाव के लिए वह हमेशा अपने वोट की ताकत का इस्तेमाल करते हैं.

6. अच्छे समाज के लिए अच्छा उम्मीदवार जरूरी : बिगनी उरांव
अरसंडे की बिगनी उरांव कहती हैं कि वह ज्यादा पढ़ी-लिखी नहीं हैं, लेकिन हमेशा वोट करती हैं. सब काम छोड़कर चुनाव के दिन मतदान केंद्र पर पहुंच कर मतदान करती हैं. अच्छे उम्मीदवार को चुन कर ही अच्छे समाज का निर्माण हो सकता है. वह अपने मताधिकार का प्रयोग हर चुनाव में करती हैं. कहती हैं कि हर किसी को वोट जरूर करना चाहिए.