gram savraj

  • Dec 14 2019 1:33PM

तिलैया डैम की छटा निराली

तिलैया डैम की छटा निराली

जिला : कोडरमा 

रांची- पटना राष्ट्रीय राजमार्ग के किनारे है तिलैया डैम. बराकर नदी पर बना यह डैम दामोदर घाटी निगम द्वारा निर्मित पहला बांध और हाइड्रो इलेक्ट्रिक पॉवर स्टेशन है. यह डैम हरे-भरे जंगल, ऊंचे पहाड़ और पानी से लबालब होने के कारण सैलानियों को खासा आकर्षित करता है. डैम के बीच में बना रेलवे ब्रिज और पुल इसकी खूबसूरती में चार चांद लगा देते हैं. 36 वर्ग किमी में फैले इस डैम की ऊंचाई करीब 100 फीट व लंबाई 1200 फीट है.

कोडरमा जिले का पहला डैम है तिलैया डैम. इसके निर्माण का उद्देश्य गांवों में आनेवाली बाढ़ से लोगों को बचाना तथा बिजली बनाना है. तिलैया डैम में जाड़े के मौसम में कई विदेशी पक्षी प्रवास के लिए आते हैं. दुनिया में विलुप्त हो रही पक्षियों और जानवरों के लिए यह डैम सुरक्षित आश्रय स्थल है. इसके आसपास के इलाके को इंपोर्टेंट बर्ड एंड बायोडायवर्सिटी एरिया इन इंडिया (आइबीए) घोषित किया गया है.

एेेसे आइए

कोडरमा-हजारीबाग राजमार्ग पर होने के कारण सड़क मार्ग से यहां आसानी से पहुंचा जा सकता है. यह कोडरमा जिला मुख्यालय से करीब 19 किमी दूर है. बरही से भी इस डैम तक पहुंचा जा सकता है. रेलमार्ग से भी यहां पहुंचा जा सकता है. कोडरमा रेलवे स्टेशन देश के कई प्रमुख रेलवे स्टेशनों से जुड़ा हुआ है. यहां से निकटतम घरेलू हवाई अड्डा बिरसा मुंडा हवाई अड्डा, रांची है, जो कोडरमा से 178 किमी दूर है. दूसरा घरेलू हवाई अड्डा लोकनायक जयप्रकाश नारायण हवाई अड्डा, पटना है, जो कोडरमा से 165 किमी की दूरी पर है.