gound zero

  • May 20 2019 5:22PM

बंजर जमीन पर लहलहा रही तरबूज की फसल

बंजर जमीन पर लहलहा रही तरबूज की फसल

नागेश्वर
प्रखंड: गोमिया
जिला: बोकारो

बोकारो जिला अंतर्गत सुदूरवर्ती क्षेत्र ललपनिया पंचायत के अइयर गांव के किसान परती व बंजर भूमि को उपाजऊ बना कर तरबूज की खेती कर रहे हैं. इनकी मेहनत से बंजर जमीन तरबूज की फसल से लहलहा रही है. डैम किनारे बंजर भूमि को उपजाऊ बना कर किसान अच्छी आमदनी कर रहे हैं. आदिवासी किसान विकास समिति के सदस्य तरबूज की खेती को बढ़ावा देते हुए अन्य किसानों को भी इस खेती के लिए प्रेरित कर रहे हैं. दामोदर नदी के तट पर बंजर व परती भूमि को समतल कर कृषि योग्य बनाया गया. करीब सात एकड़ भूमि में उन्नत किस्म का तरबूज बीज ढाई माह पूर्व लगाया गया था. आज खेतों में तरबूज लहलहा रहे हैं. इन तरबूजों को मंडी में बेचकर अच्छी आमदनी हो रही है. तरबूज उत्पादन में इलाके के राजेश मुर्मू, राजकुमार सोरेन, मनोज मुर्मू, उज्जवल बेसरा, दशमी देवी, लालमुनी देवी, बिराजो देवी, छोटू मांझी आदि जुड़े हैं. युवा आदिवासी कृषक अनिल कुमार हांसदा ने कहा कि अगर सरकार प्रोत्साहित करे, तो अन्य क्षेत्रों की परती व बंजर भूमि पर मौसमी खेती कर कई लोग खेती-बारी से जुड़ सकेंगे

यह भी पढ़ें: अमृत जल का कमाल, रसोई घर के कचरे से बन रही है जैविक खाद

गोमिया प्रखंड के बीटीएम राजन कुमार मिश्रा कहा कि कृषि कार्य से जुड़े लोगों को प्रशिक्षण दिया गया. साथ ही सरकार से मिलनेवाली सहायता दिलायी गयी. कहते हैं कि समिति के लोग काफी मेहनती हैं. गोमिया प्रखंड के विभिन्न क्षेत्र के ग्रामीण किसान पहले गेहूं, चना, मूंग आदि की खेती करते थे. साथ ही पैसे के अभाव में जमीन को यूं ही परती छोड़ देते थे. अब किसान उन्नत तकनीके के माध्यम से कम लागत में अपने खेतों में तरबूज, ककड़ी, खीरा, भिंडी सहित अन्य सब्जियों के उत्पादन में लगे हैं. पेटरवार के किसान पंकज राय ने संताली युवाओं को खेती के प्रति लगन देखकर उन्हें भी सहयोग किया. फिलहाल समिति के द्वारा सात एकड़ भूमि में तरबूज की खेती की जा रही है.

बंजर भूमि को उपजाऊ बना कर खेती की जा रही है. पहली खेप में लगभग दो टन तरबूज बंगाल, बोकारो, रामगढ़ व गोला की सब्जी मंडी में बिक्री कर चुके हैं. खेतों में अभी और तरबूज हैं, जिसे जल्द ही सब्जी मंडी में भेजने की व्यवस्था की जा रही है. अनिल कुमार हांसदा और नरेश किस्कू खुद भी तरबूज की खेती कर क्षेत्र के अन्य ग्रामीणों को खेती करने के लिए प्रेरित कर रहे हैं.