gound zero

  • Jul 16 2018 3:56PM

महिला मुखिया रीना देवी के विजन से बदल रही पंचायत

महिला मुखिया रीना देवी के विजन से बदल रही पंचायत

पंचायतनामा डेस्क

प्रखंड : टंडवा
जिला : चतरा 

चतरा जिला अंतर्गत टंडवा प्रखंड की पंचायत है बचरा दक्षिण. इस पंचायत की महिला मुखिया रीना देवी अपनी पंचायत को अलग पहचान दिला रही हैं. शिक्षा का क्षेत्र हो या स्वास्थ्य या डिजिटल प्लेटफॉर्म. हर दिशा में मुखिया बेहतर कार्य कर रही हैं. यह पंचायत का ड्रॉप आउट रेट जीरो है. यहां के सभी बच्चे स्कूल जाते हैं. स्वच्छ भारत मिशन के तहत शौचालय निर्माण का कार्य भी बखूबी हुआ है. यही कारण है कि यह पंचायत ओडीएफ है. इसके अलावा शून्य शिशु मृत्यु दर, शून्य मातृत्व दर व बाल विवाह मुक्त पंचायत है. टीकाकरण के लिए ग्रामीणों को जागरूक किया जाता है. हर मोहल्ले में नुक्कड़ नाटक के माध्यम से सहिया, एएनएम व पंचायत जनप्रतिनिधि ग्रामीणों को स्वास्थ्य को लेकर जागरूक करते हैं. ग्रामीणों को डिजिटल बनाने के उद्देश्य से मुखिया ने बाकायदा डिजिटल प्लेटफॉर्म के तहत पंचायतों की गतिविधियां पंचायत की वेबसाइट पर उपलब्ध करायी हैं, ताकि दूसरी पंचायत के लोग भी यहां की गतिविधियों से रूबरू हो सकें. इस पंचायत की वेबसाइट www.bachrasouthpanchayat.in पर जाकर आप इस पंचायत की गतिविधियों को जान सकते हैं.

पर्यावरण संरक्षण की अनूठी पहल
बचरा दक्षिण पंचायत की मुखिया ने अपने पंचायत क्षेत्र में एक अनूठी पहल शुरू की है. जन्म प्रमाण पत्र बनाने वाले अभिभावकों से अपने बच्चों के नाम पर एक फलदार पौधा लगाने की अपील की जाती है. इससे जहां पर्यावरण संरक्षण को बल मिलेगा, वहीं ग्रामीणों में पर्यावरण के प्रति जागरूकता भी आयेगी. अब तक कई लोगों ने अपने बच्चों के नाम पर फलदार पौधे लगाये हैं. ये पौधे आवेदक अपनी बगिया में लगा रहे हैं. पौधरोपण के साथ ही बच्चे का नाम, जन्मतिथि व बच्चे के माता-पिता के नेमप्लेट भी पौधों के साथ लगाया जा रहा है. इस दौरान मुखिया बच्चे के माता-पिता से पौधे को सींचने एवं सुरक्षा देने की वचन भी लेती हैं.

सिलाई-कढ़ाई के माध्यम से महिलाएं बनतीं आत्मनिर्भर
बचरा दक्षिण पंचायत की ग्रामीण महिलाएं आज खुद अपने पैरों पर खड़ी हो रही है. सिलाई-कढ़ाई के माध्यम से आत्मनिर्भर बन रही हैं. मुखिया रीना देवी ने अपने पंचायत क्षेत्र की कई महिलाओं को सिलाई मशीन उपलब्ध कराया है, ताकि वो सिलाई-कढ़ाई कर आमदनी कर सकें.

सभी बच्चे जाते हैं स्कूल
बचरा दक्षिण पंचायत का ड्रॉप आउट रेट जीरो है. इस पंचायत के सभी बच्चे अब स्कूल जाते हैं. इसके लिए मुखिया ने बच्चों के अभिभावकों को शिक्षा के महत्व की जानकारी देकर उन्हें प्रेरित किया. कई बार बैठकें आयोजित हुईं. उन्हें स्कूल जाने से बच्चों को मिलने वाले लाभ के बारे में बताया. ग्रामीण धीरे-धीरे जागरूक होने लगे और इसी का परिणाम दिखा कि अब पंचायत क्षेत्र के सभी बच्चे स्कूल जा रहे हैं. कॉपी-किताब समेत कई पुरस्कार देकर बच्चों का हौसला बढ़ाया जाता है.

शराबबंदी पर लगी रोक
अवैध शराब की रोकथाम के लिए पंचायत क्षेत्र में एक मुहिम चली. मुखिया समेत पंचायत जनप्रतिनिधियों ने सक्रिय भूमिका निभायी. अन्न नहीं, तो शराब नहीं की मुहिम चलायी गयी. ग्रामीणों को शराब से होनेवाले नुकसान के बारे में बताया गया. इसका असर दिखा और पंचायत क्षेत्र में अवैध शराब पर रोक लग गयी.

पंचायत की वेबसाइट पर है कई जानकारी
पंचायत की वेबसाइट www.bachrasouthpanchayat.in पर आप एक क्लिक कर इस पंचायत की गतिविधियों को जान सकते हैं. इस वेबसाइट पर विकास, कल्याण और बदलाव से जुड़ी हर तरह की सूचनाएं उपलब्ध हैं. नाली, गली और पंचायत सचिवालय की तस्वीरें, ग्रामसभा का आयोजन, टीकाकरण अभियान, पंचायत सचिवालय में पंचायत प्रतिनिधि और डीलरों की बैठक आदि को दर्शाया गया है.

जल्द खुलेगा उपस्वास्थ्य केंद्र
बचरा दक्षिण पंचायत के लोगों को इलाज के लिए फिलहाल सीसीएल के अस्पताल पर निर्भर होना पड़ता है. इससे मरीज व उसके परिजनों को काफी परेशानी होती है. इस समस्या के समाधान के लिए मुखिया ने अपने पंचायत क्षेत्र में उपस्वास्थ्य केंद्र खोलने संबंधी संबंधित विभाग के अधिकारियों को आवेदन भी दिया है. मुखिया बताती हैं कि जल्द ही पंचायत क्षेत्र में उपस्वास्थ्य केंद्र खुल जायेगा.

पंचायतों का आधुनिकीकरण जरूरी : रीना देवी, मुखिया
बचरा दक्षिण पंचायत की मुखिया रीना देवी कहती हैं कि वर्तमान समय में अपनी पंचायत के ग्रामीणों को तकनीकी जानकारी उपलब्ध कराना जरूरी है. पंचायत क्षेत्र में शिक्षित लोगों की संख्या अधिक होने के कारण ज्यादा परेशानी नहीं हुई. अब सभी गतिविधियों से लोग रूबरू हो रहे हैं. कहती हैं कि विकास को अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाना ही उनकी प्राथमिकता है. गांव-पंचायत का विकास होगा, तो ग्रामीण खुश होंगे और उनका विकास होगा.