badte gaao

  • Apr 16 2019 6:53PM

अब अतिथि नहीं लगते बोझ, आंखों से नहीं गिरता पानी

अब अतिथि नहीं लगते बोझ, आंखों से नहीं गिरता पानी

सत्या राज
जिला: धनबाद

धनबाद जिला अंतर्गत श्रीराम नगर चांदमारी कोलियरी की महिलाएं प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत रसोई गैस पाकर काफी खुश हैं. महिलाओं का कहना है कि रसोई गैस आने से समय की बचत तो हो ही रही है साथ ही अब रात में अतिथि के आने पर भी फटाफट खाना बन जाता है. अब अतिथि भार नहीं लगते और न ही आंखों से पानी गिरता है. दम भी नहीं फूलता. थोड़ा बचा कर चलते हैं, ताकि महीना पार लग जाये. चूल्हा में खाने बनाने से काफी दिक्कत होती थी. धुआं से परेशानी होती थी. बारिश के दिनों में कोयला भींग जाता था. चूल्हा जलाने में काफी परेशानी होती थी. अब इन झंझटों से छुटकारा मिल गया है. रसोई गैस पाकर हम महिलाएं काफी खुश हैं.

महिला लाभुकों की राय
केस स्टडी- एक
लालती देवी कहती हैं कि दो महीने पहले हमें गैस चूल्हा मिला है. गैस पर खाना बनाकर जो सुख मिल रहा है, उसे बयां नहीं कर सकते. हमारे परिवार में 10 सदस्य हैं. पति नहीं हैं. बेटा फेरी कर गुजारा करता है. अब खाना बनाना आसान लगता है. फटाफट खाना बना लेते हैं. अतिथि के आने पर अब आसानी से चाय बनाकर पिलाते हैं.

यह भी पढ़ें: नि:शुल्क गैस कनेक्शन ने ग्रामीण महिलाओं के चेहरे पर बिखेरी मुस्कान

केस स्टडी- दो
गीता देवी कहती हैं कि हमें एक साल पहले गैस कनेक्शन मिला है. जब से गैस पर खाना बनाना शुरू किया है, गैस खत्म होने के बाद भी चूल्हा जलाना अच्छा नहीं लगता है. छह सदस्यीय परिवार का खाना जल्दी बन जाता है. समय भी बचता है. आराम भी मिलता है. परिवार को समय भी दे पाते हैं.

केस स्टडी- तीन
मोनी कुमारी कहती हैं कि हमें जितिया के दिन गैस कनेक्शन मिला था. उपवास के दिन गैस पाकर बहुत खुशी गई. पारण गैस पर बने भोजन से किया. जल्दी-जल्दी खाना बना. टाइम से सब हो गया. पहले चूल्हा जला कर खाना बनाते थे. बहुत समय लगता था. गैस आने से हमारे जीवन में खुशियां आयीं.

केस स्टडी- चार
कबूतरी देवी कहती हैं कि माता रानी के आशीर्वाद से मुझे दुर्गापूजा में गैस मिला था. गैस मिलने से हम महिलाओं का काम आसान हो गया. जो समय बचता है, उसमें सिलाई करते हैं. ये सही है कि सिलिंडर महीने भर चले इसका भी ध्यान रखते हैं. लकड़ी, गोइठा व कोयले से हमें छुटकारा मिल गया.