badte gaao

  • Jan 17 2019 6:21PM

कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय, पोटका की छात्राएं राष्ट्रीय स्तर पर लहरा रही हैं परचम

कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय, पोटका की छात्राएं राष्ट्रीय स्तर पर  लहरा रही हैं परचम

संजय सरदार
जिला: पूर्वी सिंहभूम

सुदूरवर्ती ग्रामीण एवं क्षितिज बालिकाओं के लिए स्थापित कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय (केजीवीभी), पोटका की छात्राएं आज राज्य में बेहतर प्रदर्शन कर राष्ट्रीय स्तर पर अपना परचम लहरा रही हैं. शिक्षा का क्षेत्र हो, खेल या सेवा का क्षेत्र. आप वर्तमान परिदृश्य में नजर दौड़ायेंगे, तो हर क्षेत्र में पोटका की एक-दो बालिकाएं जरूर मिल जायेंगी. विद्यालय का आकर्षक मॉडल, खूबसूरत गार्डेन और स्वच्छ परिवेश हर किसी को आकर्षित करता है. विद्यालय का बेहतर शैक्षणिक माहौल और सक्रिय गतिविधियों की सराहना सभी करते हैं. यही कारण है कि नीति आयोग ने देश में केजीवीभी, पोटका मॉडल को लागू करने की घोषणा की है. पूर्वी सिंहभूम जिले का केजीवीभी, पोटका प्रखंड मुख्यालय से एक किलोमीटर की दूरी पर स्थित है.

एक नजर विद्यालय पर
स्थापना- 2006
कक्षा- छह से 12वीं ( कक्षा-11 एवं 12 में तीनों संकाय संचालित)
छात्राओं की कुल संख्या- 450
शिक्षिकाओं की कुल संख्या- 16 (फुल टाइम-5 एवं पार्ट टाइम-11)
गैर शैक्षणिक कर्मी- 10 (फुल टाइम-2 एवं पार्ट टाइम-7)

यह भी पढ़ें: अपनी प्रतिभा का लोहा मनवातीं छात्राएं

हर स्तर पर तरासी जाती है प्रतिभा
केजीवीभी, पोटका में बालिकाओं की प्रतिभा को हर स्तर पर तरासा जाता है. यही कारण है कि यहां नामांकन के लिए छात्राओं की होड़ लगी रहती है. यहां छात्राओं को पढ़ाई का एक बेहतर माहौल दिया जाता है. यहां तक कि छात्राओं को स्मार्ट क्लास के माध्यम से हर स्तर से स्मार्ट बनाने का प्रयास किया जाता है. इन्हें आत्मरक्षार्थ मार्शल आर्ट का प्रशिक्षण दिया जाता है, तो खेल में तीरंदाजी, फुटबॉल, कबड्डी के साथ-साथ भाषण, ग्रुप डिस्कशन, नृत्य आदि भी सिखाया जाता है. बालिकाएं हुनरमंद हों, इसके लिए आर्ट एंड क्राफ्ट, फाइन आर्ट, सिलाई-कढ़ाई के साथ-साथ बैम्बू क्राफ्ट का भी प्रशिक्षण दिया जाता है.

शिक्षा में इंजीनियर, खेल में गोल्ड मेडलिस्ट
यहां की बालिकाओं की सफलता को देखा जाये, तो यहां की छात्राएं हर स्तर पर अपनी प्रतिभा को प्रदर्शित कर रही हैं. यहां की बालिकाएं सेवा के क्षेत्र में इंजीनियरिंग तक की पढ़ाई कर विभिन्न क्षेत्र में अपनी सेवा दे रही हैं, तो खेल के क्षेत्र में अनेक छात्राएं राष्ट्रीय स्तर पर भाग लेकर गोल्ड मेडल तक प्राप्त कर चुकी हैं. कला के क्षेत्र में भी अनेक छात्राएं देश के विभिन्न हिस्सों में राज्य का प्रतिनिधित्व कर चुकी हैं.

केजीवीभी, पोटका की बालिकाओं की प्रतिभा
फुलमनी हांसदा ने पढ़ाई के लिए शादी का विरोध किया था, जो केजीवीभी, पोटका में पढ़ाई करने के बाद वर्तमान में नरेगा प्रशिक्षण केंद्र में सिलाई प्रशिक्षिका हैं.

लक्ष्मी टुडू केजीवीभी, पोटका में पढ़ाई कर केजीवीभी, जमशेदपुर में तीरंदाजी प्रशिक्षिका के रूप में कार्यरत हैं.

केजीवीभी, पोटका की बालिका रही लुखी सोरेन रानी हॉस्टल, चक्रधरपुर में तीरंदाजी प्रशिक्षिका हैं.

केजीवीभी, पोटका की छात्रा रही सरस्वती सरदार वर्तमान में टाटा मोटर में जूनियर इंजीनियर के पद पर कार्यरत हैं.

सुकुरमनी सोरेन केजीवीभी, पोटका में पढ़ाई पूरी करने के बाद इसी स्कूल में महिला गार्ड के रूप में कार्यरत हैं.

पोदू बेसरा केजीवीभी, पोटका में बेम्बो आर्ट प्रशिक्षिका के रूप में कार्यरत हैं.

केजीवीभी की बालिका संगीता महली टाटा आर्चरी अकादमी की प्रशिक्षिका पूर्णिमा महतो से तीरंदाजी का प्रशिक्षण ले रही हैं. इन्होंने राष्ट्रीय स्तर की प्रतियोगिता में एक गोल्ड मेडल, एक ब्रॉन्ज मेडल एवं स्टेट लेवल में पांच गोल्ड मेडल, तीन सिल्वर मेडल एवं एक ब्रॉन्ज मेडल जीत चुकी है.

केजीवीभी की बालिका लक्ष्मी हेंब्रम टाटा आर्चरी अकादमी की प्रशिक्षिका पूर्णिमा महतो से तीरंदाजी का प्रशिक्षण ले रही हैं. यह मिनी नेशनल अर्चरी चैंपियनशिप में एक गोल्ड मेडल, एक ब्रॉन्ज एवं स्टेट लेवल में दो गोल्ड, दो सिल्वर एवं एक ब्रॉन्ज मेडल जीत चुकी हैं. इनका चयन खेलो इंडिया में भी हुआ है.

लुखी हेंब्रम ने वर्ष 2017 में जिला स्तर पर कबड्डी में बेहतर प्रदर्शन किया. इसके कारण स्कूल गेम्स फेडरेशन ऑफ इंडिया के अंतर्गत राज्य व राष्ट्रीय स्तर प्रतियोगिता में चयन हुआ.

कोलकाता में आयोजित राष्ट्रीय ओपन ताइक्वांडो चैंपियनशिप, 2017 में सरिता सरदार ने बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए रजत पदक प्राप्त किया था.

उर्मिला टुडू राष्ट्रीय तीरंदाजी प्रतियोगिता में तीन गोल्ड मेडल जीत चुकी हैं.

पानो मुर्मू दुर्गापुर में आयोजित आमंत्रण ताइक्वांडो प्रतियोगिता में सीनियर वर्ग में स्पाइरिंग इवेंट में ब्रॉन्ज मेडल जीत चुकी हैं.

पूर्णिमा बास्के दुर्गापुर में आयोजित आमंत्रण ताइक्वांडो प्रतियोगिता के जूनियर वर्ग में स्पाइरिंग इवेंट में गोल्ड मेडल जीत चुकी हैं.

कक्षा आठ की अंजली मार्डी नई दिल्ली में आयोजित कला उत्सव 2018 में झारखंड का प्रतिनिधित्व कर लौटी हैं.

बालिकाओं को हर स्तर पर मजबूत करने का प्रयास : रूमा हालदार
केजीवीभी, पोटका की वार्डन रूमा हालदार ने कहा कि यहां की छात्राओं को हर स्तर पर मजबूत बनाने का प्रयास किया जाता है. इसके तहत छात्राओं को विद्यालय में एक बेहतर शैक्षणिक माहौल में शिक्षा दी जाती है. छात्राओं को खेल, कला एवं आत्मनिर्भर बनने का पूरा अवसर दिया जाता है.