badi khabar

  • Oct 25 2019 3:49PM

साधारण गांव की असाधारण महिलाएं

साधारण गांव की असाधारण महिलाएं

गांव-पंचायत की महिलाओं को अमूमन कमतर आंका जाता है, लेकिन वे असाधारण हैं. घर की चौखट तक सीमित रहनेवाली झारखंड की महिलाओं ने विपरीत परिस्थितियों में भी खुद को अपनी क्षमता से साबित किया है. हालत का रोना रोने की बजाय उन्होंने उसका डटकर मुकाबला किया और आगे की राह आसान बनायी. आपको इनकी दास्तां सुनकर सहसा यकीन नहीं होगा, लेकिन सामान्य चेहरे के पीछे छिपी जिद, संघर्ष और बदलाव की तड़प देख आप हैरत में पड़ जायेंगे. ये महिलाएं हौसला हैं. प्रेरणा हैं. अपनी तकलीफ को दरकिनार कर सामाजिक बदलाव के लिए इनका समर्पण सचमुच सराहनीय है. ऐसी ही मातृशक्ति की बदौलत झारखंड नित नये आयाम गढ़ रहा है. पंचायतनामा के इस अंक में ऐसी ही ग्रामीण महिलाओं से आप सभी को रू--रू कराने का प्रयास किया गया है, जो ग्रामीण महिलाओं के लिए रोल मॉडल हैं.