aamukh katha

  • Oct 17 2018 1:29PM

800 सरकारी भवनों में लगेगा सोलर रुफ टॉप

800 सरकारी भवनों में लगेगा सोलर रुफ टॉप

 

मार्च 2019 तक झारखंड के 800 सरकारी भवनों में सोलर रुफ टॉप लगाने की योजना है. ज्रेडा की ओर से इसके लिए प्रयास किये जा रहे हैं. पांच मेगावाट का सोलर रुफ टॉप लगाने के लिए लोगों को जागरूक करने की कोशिश की जायेगी. इस दौरान बिजली उपभोक्ताओं को सोलर लाइट के फायदे और इससे होने वाली बचत की जानकारी देकर इसके उपयोग को लेकर उन्हें प्रेरित किया जायेगा.

सोलर रुफ टॉप पर 50 फीसदी सब्सिडी
सोलर रुफ टॉप पर घरेलू बिजली उपभोक्ताओं को 50 फीसदी सब्सिडी दी जाती है. इसमें बिजली विभाग द्वारा तय किये गये लोड तक सब्सिडी देने का प्रावधान है. आप अपने घर के छत पर सोलर पैनल लगा सकते हैं. ज्रेडा ने इसके लिए एजेंसी भी तय कर दी है. आप उक्त एजेंसी के माध्यम से 50 फीसदी सब्सिडी पर सोलर पैनल लगा सकते हैं. इससे आपको एक साथ दोहरा लाभ मिलेगा. एक तो आप सोलर पैनल से पैदा होनेवाली बिजली का खुद इस्तेमाल कर सकते हैं और बची हुई बिजली को आप बेच भी सकते हैं. झारखंड बिजली वितरण निगम लिमिटेड (जेबीवीएनएल) आपसे बिजली खरीदेगी. यह राशि आपके बिजली बिल में एडजस्ट कर दी जायेगी.

उपभोक्ताओं को मिलनेवाली सब्सिडी की स्थिति :
अपने घरों के छत पर सौलर रुफ टॉप प्लांट के लिए आवासीय उपभोक्ताओं को बिना बैटरी लिए 50 फीसदी सब्सिडी मिल रही है, वहीं सामाजिक क्षेत्र के उपभोक्ता को करीब 30 फीसदी और व्यावसायिक क्षेत्र के उपभोक्ता को करीब 10 फीसदी की सब्सिडी मिल रही है. आइये देखते हैं कि किस उपभोक्ता को कितने रुपये खर्च करने पड़ेंगे सोलर रुफ टॉप प्लांट लगाने के लिए. वहीं, दूसरी बैटरी के साथ सौलर रुफ टॉप प्लांट लगाने के लिए आवासीय उपभोक्ता को करीब 30 फीसदी छूट मिलेगी. सामाजिक क्षेत्र के उपभोक्ता के लिए 17.5 फीसदी और व्यावसायिक क्षेत्र के उपभोक्ता के लिए करीब छह फीसदी छूट मिलेगी.

यह भी पढ़ें: सौर ऊर्जा से फैला गांव-जवारों में फैला उजियारा 

निजी स्कूलों को मिलेगी 20 फीसदी की छूट
सोलर रुफ टॉप प्लांट लगाने के लिए निजी स्कूलों व संस्थाओं को भी छूट मिलेगी. बैटरी व बिना बैटरी वाला सोलर रुफ टॉप प्लांट लगाने की दोनों स्थिति में आपको 20 फीसदी की छूट मिलेगी.

एजेंसी के माध्यम से लिजिए सोलर रुफ टॉप प्लांट
ज्रेडा ने सोलर रुफ टाॅप प्लांट लगाने वाले इच्छुक उपभोक्ताओं के लिए विभिन्न एजेंसी तय कर दी है. इसके माध्यम से आप सोलर रुफ टॉप प्लांट लगा सकते हैं. वैसे उपभोक्ता अपने घर के छत पर सोलर पैनल व प्लांट लगा सकते हैं, जिनके नाम बिजली बिल आता है. जितना किलोवाट का बिजली आप उपयोग करते हैं आप उतने किलोवाट का ही सोलर रुफ टॉप प्लांट लगा सकते हैं. इसके लिए सबसे पहले आपको एजेंसी के माध्यम से आवेदन देना होगा. इसके बाद एजेंसी बिजली विभाग के माध्यम से सारी औपचारिकताएं पूरी कर आपके घर की छत पर सोलर रुफ टाॅप प्लांट लगा सकते हैं.

600 रुपये में सोलर लालटेन
सोलर लालटेन की कीमत 1600 रुपये है. इस पर एक हजार रुपये की सब्सिडी है यानी आमलोग अक्षय ऊर्जा शॉप से छह सौ रुपये में लालटेन प्राप्त कर सकेंगे.

खूंटी सिविल कोर्ट देश का पहला सोलर रुफ टॉप वाला कोर्ट
झारखंड का खूंटी सिविल कोर्ट देश का पहला सिविल कोर्ट है, जहां सोलर रुफ टॉप लगाया गया है. 02 अक्तूबर, 2015 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसका उद्घाटन किया था. साहिबगंज सिविल कोर्ट देशभर में दूसरा कोर्ट है, जहां सोलर रुफ टॉप लगा है. 06 अप्रैल, 2017 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसका भी उद्घाटन किया था. देश का तीसरा कोर्ट गढ़वा सिविल कोर्ट बना, जहां सोलर रुफ टॉप लगा है. 08 जुलाई, 2017 को झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने इसका उद्घाटन किया था. सिमडेगा चौथा सिविल कोर्ट बना, जहां सोलर रुफ टॉप लगाया गया है. ये सभी कोर्ट सौर ऊर्जा से रोशन हैं. इतना ही नहीं एसी, ट्यूबलाइट, बल्ब, पंखा, प्रिंटर, जेरॉक्स, फैक्स समेत अन्य कार्य सोलर लाइट से ही किये जा रहे हैं.

यह भी पढ़ें: सौर ऊर्जा बेहतर विकल्प

सौर ऊर्जा से जल्द रोशन होंगे सात सिविल कोर्ट
राज्य के सात अन्य सिविल कोर्ट जल्द ही सौर ऊर्जा से रोशन होंगे. इससे सौर ऊर्जा का बेहतर उपयोग कर दैनिक कार्य किया जा सकेगा. रामगढ़, कोडरमा व चतरा समेत अन्य सिविल कोर्ट में सोलर रुफ टॉप लगाने का कार्य किया जा रहा है.
सौर ऊर्जा के फायदे व नुकसान
फायदा :

यह कभी खत्म नहीं होनेवाली है ऊर्जा है
सौर ऊर्जा के माध्यम से वातावरण को दूषित होने से बचाया जा सकता है
खाना पकाने, वस्तु को सुखाने, कार, बस, ट्रेन, सेटेलाइट में भी इसका उपयोग होता है
इसके उपकरण को घर के छत पर आसानी से फिट किया जा सकता है
यह एक सस्ता ईंधन है, इस कारण इसका अधिक से अधिक लोग लाभ उठाने लगे हैं

नुकसान :
सौर ऊर्जा का उपयोग सूर्य के प्रकाश में ही हो सकता है
लगातार अंधेरा होने पर इसका उपयोग नहीं हो सकता
ऐसी स्थिति में सोलर पैनल के साथ बैटरी भी लगाना पड़ता है, जो एक तरह से दोहरा खर्च साबित होता है
इसके उपकरण काफी बड़े होते है
सौर ऊर्जा के संसाधन सेंसेटिव होते हैं

अहा एप के माध्यम से जानिए हर गतिविधि
ज्रेडा की गतिविधियों को जानने के लिए विभाग का अहा (AHA) एप बखूबी कार्य कर रहा है. इसके लिए आप अपने एंड्रॉयड मोबाइल पर एप AHA को डाउनलोड कर सौर ऊर्जा संबंधी विस्तृत जानकारी प्राप्त कर सकते हैं. अगर आप अपने घर की छत पर सोलर रुफ टॉप लगाना चाहते हैं या राज्य में सौर ऊर्जा संबंधी विस्तार से जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं, तो आप इस एप के माध्यम से प्राप्त कर सकते हैं.