aamukh katha

  • Oct 17 2018 1:05PM

सौर ऊर्जा से गांव-जवारों में फैला उजियारा

सौर ऊर्जा से गांव-जवारों में फैला उजियारा

गुरुस्वरूप मिश्रा

झारखंड के गांव-जवार सौर ऊर्जा से रोशन हो रहे हैं. रात में भी वहां दिन की तरह उजाला है. सौर ऊर्जा से उजियारा फैलने के कारण लालेटन युग से लोगों को मुक्ति मिल रही है. खासकर ऐसे इलाके जहां बिजली पहुंचना सपने जैसे था. उन सुदूरवर्ती क्षेत्रों के लोगों के चेहरे पर सौर ऊर्जा से मुस्कान है. इससे न सिर्फ घर-घर में रोशनी है, बल्कि चौक-चौराहे व गलियां भी रोशन हैं. किसान भी सोलर पंप के जरिए सिंचाई कार्य आसानी से कर ले रहे हैं. बिजली खपत कम कर बचत करने के लिहाज से भी सौर ऊर्जा बेहतर विकल्प है. स्वरोजगार की दिशा में भी यह महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है

यह भी पढ़ें: गिंजो ठाकुरगांव को नयी दिशा दे रहे पंचायत समिति सदस्य लक्ष्मी

अधिक से अधिक लोगों के बीच सौर ऊर्जा पहुंचे, इस दिशा में राज्य सरकार गंभीर प्रयास कर रही है. सरकार सभी सरकारी भवनों में सौर लाइट लगा रही है. सोलर प्लांट लगने से पर्यावरण प्रदूषण कम होगा. सरकार आनेवाले दिनों में हरित क्रांति ऊर्जा किसानों को तोहफा में देगी. किसान भाई-बहन भी सौर ऊर्जा को अपनायें, ताकि कृषि क्षेत्र में उनको मदद मिले और उनकी आमदनी भी बढ़ सके.

गांवों में फैला अंधियारा दूर
झारखंड के सात जिलों के वैसे 245 गांवों के करीब 16 हजार घर सोलर लाइट से जगमग हो गये हैं, जहां ग्रिड से बिजली दे पाना संभव नहीं था. लिहाजा ज्रेडा (झारखंड रिन्यूएबल एनर्जी डेवलपमेंट एजेंसी) द्वारा मिनी ग्रिड के माध्यम से उन सुदूरवर्ती गांवों को सोलर लाइट से रोशन किया गया है. वर्षों से इन गांवों में फैले अंधियारे को दूर कर उजियारा फैलाया गया. पहले बिजली नहीं रहने के कारण रोशनी के लिए लालटेन या टॉर्च ही इनका सहारा था. बारिश के दिनों में इनकी परेशानी बढ़ जाती थी. अब सोलर लाइट से यहां न सिर्फ हर घर में रोशनी दी गयी है, बल्कि सोलर स्ट्रीट लाइट के जरिये चौक-चौराहे व गलियों को अंधेरामुक्त कर दिया गया है. इसका उत्साह ग्रामीणों के चेहरे पर साफ तौर से देखा जा सकता है.

सात जिलों के गांव, जो सौर ऊर्जा से रोशन हुए :
जिला                     गांव की संख्या
चतरा                            83
चाईबासा                        56
साहेबगंज                       43
गुमला                            23
पाकुड़                           18
हजारीबाग                       16
सिमडेगा                         06

सोलर लाइट से जल्द रोशन होंगे 85 गांव
पहले चरण में सात जिलों के 245 गांवों को सोलर लाइट से रोशन करने के बाद दूसरे चरण में 85 गांवों को सौर ऊर्जा से जगमग किया जायेगा. इससे 3750 घरों को रोशनी मिलेगी. ज्रेडा की ओर से इसके लिए 31 दिसंबर, 2018 तक कार्य पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है.

सोलर पंप से सिंचाई कर रहे किसान
किसानों को बेहतर सिंचाई सुविधा उपलब्ध कराने के लिए सोलर पंप दिया गया है. विभिन्न जिलों के किसानों के बीच 467 सोलर पंप का वितरण किया गया है. इससे किसानों को सिंचाई करने में काफी आसानी हो रही है. न बिजली की आंखमिचौली की किचकिच और न महंगी बिजली का बिल चुकाने का सिरदर्द. अब किसान सुविधा के अनुसार सोलर पंप का उपयोग कर सिंचाई का कार्य कर रहे हैं. किसानों को सोलर पंप पर 90 फीसदी सब्सिडी दी गयी है. इसका लाभ किसान उठा रहे हैं.

छह सबसे पिछड़े जिलों को जल्द मिलेगा सोलर पंप
राज्य के छह सबसे पिछड़े जिलों के किसानों को जल्द सोलर पंप दिया जायेगा. इनके बीच दो हजार सोलर पंप का वितरण किया जाना है. खूंटी, गुमला, पश्चिमी सिंहभूम, सिमडेगा, पाकुड़ एवं साहेबगंज के किसानों को सोलर पंप का लाभ मिलेगा. 80-85 फीसदी सब्सिडी पर किसानों को सोलर पंप सेट दिया जायेगा.

सोलर पंप वितरण दर और सब्सिडी की स्थिति :
सोलर पंप की क्षमता        न्यूनतम दर      राज्य सब्सिडी    केंद्र सब्सिडी    लाभुक अंशदान
1. 2
एचपी एसी समरसिबल   1, 60, 000     96,000             40,000           24,000
2. 2
एचपी डीसी समरसिबल  1, 70, 000    1, 02, 000        42,500           25,500
3. 3
एचपी एसी समरसिबल    2, 17, 000    1, 30, 200        54, 250          32, 550
4. 3
एचपी डीसी समरसिबल   2, 37, 000   1, 42, 200         59, 250          35, 550
5. 5
एचपी एसी समरसिबल    3, 04, 500    1, 82, 70           60, 900          60, 900
6. 5
एचपी डीसी समरसिबल   3, 36, 050     2, 01, 630        67, 210         67, 210

522 सरकारी भवनों में लगी है सोलर लाइट
राज्य भर के 522 सरकारी भवनों में सोलर लाइट लगी हुई है. इनमें कस्तूरबा गांधी विद्यालय समेत सरकारी कार्यालयों, सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों, अस्पतालों आदि में सोलर लाइट लगी है. सरकारी विद्यालयों में बिजली की अनियमित आपूर्ति से विद्यार्थियों को कंप्यूटर की पढ़ाई में काफी परेशानी आती थी. अब यह परेशानी दूर हो रही है.

2885 पंचायत भवनों में है सोलर लाइट की सुविधा
राज्य में 4398 पंचायत हैं. इनमें 2885 पंचायत भवनों में सोलर लाइट की सुविधा उपलब्ध है.

259 ब्लॉक में रोशनी के लिए है सोलर लाइट
सूबे में 263 ब्लॉक हैं. 259 ब्लॉकों में रोशनी के लिए सोलर लाइट की व्यवस्था उपलब्ध करा दी गयी है.