aamukh katha

  • Mar 4 2019 11:54AM

आधी आबादी की ताकत

आधी आबादी की ताकत

आठ मार्च यानी अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस. अब महिलाएं हर क्षेत्र में पुरुषों के साथ कदमताल कर रही हैं. देश व समाज की ताकत बन रही हैं. समाज के विभिन्न क्षेत्रों में इनका योगदान पुरुषों से कम नहीं है. झारखंड की महिलाएं अपने हुनर के बल पर अपना व राज्य का नाम रोशन कर रही हैं. महिलाओं को सशक्त करने में सरकार भी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है. महिलाओं के नाम सिर्फ एक रुपये में जमीन की रजिस्ट्री, किसी संपत्ति की रजिस्ट्री कराने पर निबंधन व स्टांप शुल्क में 10 फीसदी छूट का प्रावधान समेत कई सुविधाएं दी गयी हैं.

हाल के वर्षों में समाज में महिला सशक्तीकरण की नयी चेतना उभरी है. जेंडर बजट के माध्यम से राज्य के हर वर्ग की महिलाओं को सबल कर उनके हाथों में निर्णायक शक्ति दी जा रही है. आर्थिक, सामाजिक, राजनीति, खेल समेत अन्य सभी क्षेत्रों में यहां की महिलाएं परचम लहरा रही हैं. इसी का परिणाम है कि ध्यानचंद पुरस्कार से लेकर पद्मश्री पुरस्कार तक से यहां की कर्मठ महिलाएं सम्मानित हो चुकी हैं. यह अंक महिलाओं को समर्पित है. इस अंक में वैसी महिलाओं का जिक्र किया गया है, जो विपरीत परिस्थितियों में भी बुलंद हौसले व अपने हुनर से राज्य का नाम रोशन कर रही हैं