aamukh katha

  • Dec 5 2018 11:34AM

बिजली आयी, खुशियां लायी

बिजली आयी, खुशियां लायी

बिजली से झारखंड में खुशियां आयी हैं. राज्य के लोगों के चेहरे की रौनक बढ़ी है. किसी प्रदेश की खुशहाली के लिए बिजली अहम है. ये राज्य कभी नक्सलवाद की आग में धधकता था. आज बिजली से शहरों की तरह सुदूरवर्ती गांवों में भी रोशनी बिखरने लगी है. न सिर्फ घर-गांव रोशन हैं, बल्कि जिंदगी की राह भी आसान होने लगी है. लालटेन युग से धीरे-धीरे लोगों को मुक्ति मिलने लगी है.

लेकिन, ये भी सच है कि आजादी के सात दशक बाद भी कई गांवों को आज भी बिजली का इंतजार है. 30 दिसंबर, 2018 तक झारखंड के हर घर को बिजली से रोशन करने का लक्ष्य है. सरकार ने किसानों को अलग फीडर से छह घंटे बिजली देने की घोषणा की है. पर्याप्त बिजली उपलब्ध करा कर लोगों के चेहरे पर खुशियां बिखेरी जा सकती हैं.