aadhi aabadi

  • Jun 13 2019 6:03PM

इमली के प्रसंस्करण केंद्र से मीठी हो रही जिंदगी

इमली के प्रसंस्करण केंद्र से मीठी हो रही जिंदगी

अनवरी खातून
प्रखंड: भरनो
जिला:रांची

गुमला जिले के भरनो प्रखंड अंतर्गत उत्तरी भरनो गुलैची टोली में जेएसएलपीएस द्वारा इमली प्रसंस्करण इकाई स्थापित की गयी है. मार्च 2018 में इसकी स्थापना की गयी थी. इससे महिला समूह की सदस्यों की जिंदगी में खुशहाली आ रही है. प्रसंस्करण इकाई को चलाने के लिए भरनो प्रखंड के सभी गांवों में उत्पादक समूह बनाये गये हैं. सभी गांवों में पहले उत्पादक समूह से जुड़े किसानों के उत्पाद को बेचने के लिए गांवों में ग्रामीण सेवा केंद्र बनाया गया है, जहां पर समूह की महिलाएं अपने उत्पाद लाकर बेचती हैं. केंद्र में उन्हें अपने उत्पाद के बेहतर दाम मिलते हैं. यहां से उत्पाद का प्रसंस्करण किया जाता है. समूह की महिलाएं ही इस कार्य को करती हैं. इसके बाद समूह की महिलाएं उसे अपने हिसाब से बाजार में बेचती हैं. केंद्र में चार तरह की मशीन लगायी गयी है.

यह भी पढ़ें: चूल्हा चौका संभालने वाली ग्रामीण महिलाएं कर रहीं मसाले का कारोबार

पहली मशीन से इमली का छिलका हटाया जाता है. दूसरी मशीन से इमली के बीज निकाले जाते हैं. तीसरी मशीन से इमली का केक बनाया जाता है और चौथी मशीन से इमली के केक को हवा रहित पैकेट में पैकिंग की जाती है. गांव स्तर पर भी इमली का संग्रह केंद्र बनाया गया है. उत्पादक समूह के माध्यम से 40-50 समूह के सदस्यों की टीम बनायी गयी है, जो गांव में उत्पाद को संग्रह करने का कार्य करती है. इमली संग्रहण केंद्र में 37 टन इमली का संग्रह किया गया, जिसे कोल्ड स्टोरेज में रखा गया. बाद में इमली को कोल्ड स्टोरेज से निकाल कर प्रसंस्करण करने के बाद बाजार में बेचा जा रहा है.

यह भी पढ़ें: जनता दरबार में मिली योजनाओं की जानकारी

वर्ष 2018 में 38 टन इमली का संग्रहण किया गया था, जिसे बेच कर सभी उत्पादक समूहों को अच्छा मुनाफा हुआ. इस कार्य से जुड़ीं समूह की सदस्यों ने बताया कि इमली प्रसंस्करण केंद्र खुल जाने से उन्हें काफी फायदा हुआ है. आर्थिक तौर पर वो समृद्ध हो रही हैं. पहले उन्हें रोजगार के लिए पलायन करना पड़ता था. अब महिलाएं खुद आत्मनिर्भर हो रही हैं. साथ ही बचत भी कर रही हैं, ताकि भविष्य में आर्थिक परेशानी उत्पन्न न हो. दीदियों ने एक स्वर में जेएसएलपीएस के सहयोग की सराहना की है.